दवा जब असर ना करे, तो नज़रें उतारती है, माँ तो माँ है ज़नाब, ये हार कहाँ मानती […]