ऐ खुदा, हिचकियों में कुछ तो फर्क डाला होता…

ऐ खुदा, हिचकियों में कुछ तो फर्क डाला होता
.
.
.
.
.
.
.
अब कैसे पता करूँ कि कौनसी वाली याद कर रही है..