हिंदी हसगुल्ले भाग 26

भुट्टा बेचने  वाला फ़ुट फ़ुट के रोया

.
जब एक माडर्न लड़की ने आ के कहा

.

.

.
अंकल एक हैडंल वाला पॉपकॉर्न देना


संता (नौकर से) –  ज़रा देख तो बाहर सूरज  निकला या नहीं ?

नौकर – बाहर तो अँधेरा   है !

संता – अरे तो टॉर्च   जलाकर देख ले  कामचोर


बेटा –  मुझे शादी  नहीं करनी,

मुझे सभी औरतों से डर  लगता है!

पिता- कर  ले बेटा! फिर एक ही औरत  ‍ से डर लगेगा,

बाकी  ‍ सब अच्छी  लगेंगी।🤣


पिता बेटे पर गुस्सा  करते हुए – एक काम ढंग से नहीं होता   तुझसे ,

तुम्हें पुदीना  लाने के लिए कहा था और तुम ये धनिया  ले आए ।

तुझ जैसे  बेवकूफ को तो घर से निकाल  देना चाहिए,

बेटा: पापा चलो इकटठे ही चलते है।

पिता :  क्यों ?

बेटा: मम्मी  ‍ कह रही थी कि ये मेथी ☘है ।


टीचर  ‍ –1 अक्टूबर, 2 अक्टूबर ओर 15 अक्टूबर को  क्या हुआ था ,

जिसे  हर साल याद करके उत्सव के रूप में  मनाया जाता है।

विद्यार्थी  –सर 1अक्टूबर को गांधी जी की माँ को भर्ती 🤱किया गया था,

2अक्टूबर  को गांधी जी का जन्म  हुआ था जिससे हम 2 अक्टूबर को ग़ांधी जयंती  मानते है।

टीचर … आैर 15 अक्टूबर क्या  हुआ था ?

विद्यार्थी- 15 अक्टूबर को गांधी जी की पंजीरी  आई थी ।

टीचर आज तक कोमा में है।


बाप ने देखा कि बेटा जीन्स का बटन टांक रहा था,

बाप – बेटा, हमने तुम्हारा विवाह कराया,

बहू  घर आयी, फिर भी तुम अपनी जीन्स पर खुद ही बटन टांक रहे हो ?

बेटा : पिताजी, आप गलत सोच रहे हैं… यह जीन्स उसी की है।

पिताजी बेहोश।


अंकल : बेटा क्या करते हो ?

लड़का : नारी सम्मान सेवा पर काम कर रहा हूं।

अंकल : सोशल वर्कर हो ?

लड़का : नहीं अंकल फेसबुक पर सब लड़कियों की फोटो लाइक करता हूं।