चौराहे पर एक भिखारी बैठा रहता है।. मैं उसको रोज़ रोटी दे के जाता हूँ…

चौराहे पर एक भिखारी बैठा रहता है ।
मैं उसको रोज़ रोटी दे के जाता हूँ।
आज मैं उसे रोटी देने गया तो वो मुझको देखकर रोते हुए कहने लगा – भाई मेरी किड्नी ले जा और उसे बेचकर दूसरी शादी कर ले
मगर
अपनी बीवी के हाथ की मोटी मोटी जली रोटी खिलाकर मुझे और कष्ट मत दे।

You may also like this:

    None Found

Leave a Comment