चाणक्य ने कहा था.. आपको एक ही दुश्मन से बार-बार युद्ध नही लड़ना चाहिए…

*गुरु* :   चाणक्य ने कहा था..
आपको एक ही दुश्मन से बार-बार युद्ध नही लड़ना चाहिए वरना आप अपने तमाम ‘युद्ध कौशल’ उसे सिखा देंगे।
 (पति पत्नी के संबंधो में भी यही होता है। दोनों योद्धा जिन्दगी भर लड़ते-लड़ते एक दुसरे के वारों से इतना परिचित हो जाते हैं कि युद्ध जिन्दगी भर चलता रहता है पर हल कुछ निकलता नही।)
*शिष्य* :  तो फिर गुरुजी, क्या करना चाहिए?
गुरु :  *दुश्मन बदलते रहना  चाहिये*।

You may also like this:

    None Found

Leave a Comment