कहती थी तुम्हारे प्यार मे मैं हर दर्द सह लूंगी…

कहती थी तुम्हारे प्यार मे मैं हर दर्द सह लूंगी…

मैंने भी चिमटा गरम कर के…हाथ पे लगा दिया…

.

.

.

.

.

दो दिन से बोलचाल बन्द है.

You may also like this:

    None Found

Leave a Comment