BSF यानि सीमा सुरक्षा बल की ज़िन्दगी के बारे…

BSF यानि सीमा सुरक्षा बल की ज़िन्दगी के बारे में किसी ने बहुत ही खूबसूरत लिखा है…

       ✈ ज़िन्दगी BSF की✈

ज़िंदगी BSF की अजीब है यारो,

पैसे होते हुये भी मै यहाँ गरीब हूं यारो।

ये वो मंज़िल है जो बस दूर से अच्छी लगती है,

कुछ को भा गयी कुछ बिगड गये है यारो।

 😞😞😞😞😞😞😞😞😞

पैसे की चाह में निकल तो आया था,

साथ में सबके सपने और माँ की दुआए लाया था।

यहाँ कोई किसी का नही होता ये पता चल गया,

ज़रूरत के वक़्त हर कोई बदल गया..

😏😏😏😏😏😏😏😏😏

सुन यार मेरे यहाँ कोई नहीं किसी का,

उलझने हजारों है आलम है बेबसी का।

न पेड़ है पैसो का न मेरी सोने की खान है,

फेंसिंग पे ड्यूटी करते है हथेली पे जान है।

😞😞😞😞😞😞😞😞😞

ना पत्नी की रोटी है, ना माँ की दाल है,

जेब में पैसे होके भी मुसाफिरों सा हाल है।

न प्यास का अहसास है न खाने की भूक है,

ज़िन्दगी सोने का ताला है, पर खाली संदूक है।

😞😞😞😞😞😞😞😞😞

एक दौर ऐसा भी आया जब मैं बहुत बीमार था,

बुखार से मर रहा था, मजबूरी से लाचार था।

जाना पड़ा था ड्यूटी पे दिल में सवाल था,

आँखों में थे आंसू मगर बच्चों का खयाल था।

😞😞😞😞😞😞😞😞😞

आधे से ज्यादा ज़िंदगी कमाने मे निकल गयी,

अपनों की ज़िंदगी बहतर बनाने मे निकल गयी।

वो कर रहे है ख्वाहिश के घर मे A/C लग जायें,

यहाँ मेरी जवानी पसीना बहाने मे निकल गयी।

😞😞😞😞😞😞😞😞😞

ना ख्वाहिश है कोई न कोई सपना है,

चारों तरफ दुश्मन है, ना कोई अपना है।

सुबह से शाम बस काम किये जा रहा हूँ,

ज़िंदगी हसते हुये फिर भी जीये जा रहा हूँ।

😞😞😞😞😞😞😞😞😞

छोड़ आऊंगा ये BSF यहां ज़िन्दगी बेकार है,

अब तो बस बच्चों के कमाने का इंतज़ार है।

फिर न करूँगा चाहत कभी सेना में जाने की,

कोशिश करूँगा थोडा बहुत गांव में कमाने की।

😞😞😞😞😞😞😞😞😞

एक इल्तजा है मेरी अगर तू समझ सकता है,

मत जा सेना में अगर यही कमा सकता है।

कम पैसो में भी ज़िन्दगी बसर होती है,

एक दूसरे को समझने की मोहब्ब्त अगर होती है।

😞😞😞😞😞😞😞😞😞

अच्छा सुन कोई आये तो मेरी दवाई भेज देना,

और हो सके तो माँ के हाथ की थोड़ी मिठाई भेज देना।

😞😞😞😞😞😞😞😞😞

चलो अलविदा निकलता हूं एसीपी जाना है,

मन हल्का करने का कविता ही बहाना है।

अब क्या करें  ज़िन्दगी इसी का नाम है,

अब क्या करें ज़िन्दगी इसी का नाम है।

👨👨👨‍✈

Dedicated to all BSF personals ☺☺

You may also like this:

Leave a Comment